आकाशवाणी,प्रसारभारती और डीपीआर में नौकरी लगाने का झांसा देकर फर्जीवाड़ा,पुलिस ने फर्जी सील,लेटर पैड़ और रिज्यूम किए बरामद

रायपुर/ठगों के हौसले इतने बुलंद है कि अब वह सरकारी ऑफिस के नाम पर भी फर्जीवाड़ा करने से भी बाज नहीं आ रहे हैं। आकाशवाणी, प्रसारभारती और डीपीआर में नौकरी लगाने के नाम पर ठगों ने अपना ऑफिस भी खोल लिया। जहां फर्जी सील, लैटरपैड के जरिए वह बेरोजगार युवाओं को बेवकूफ भी बना रहे थे। पुलिस ने राजीव नगर में छापा मारकर गिरोह का पर्दाफाश किया है और कई लड़के-लड़कियों को हिरासत में ले लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार आकाशवाणी के अधिकारियों ने शिकायत की थी कि उनके संस्था के नाम का उपयोग कर राजीव नगर के पीआईबी के नाम पर एक संस्था संचालित की जा रही है। इस संस्था को सोशल मीडिया में प्रचार किया जा रहा है जिसमें आकाशवाणी, प्रसार भारती और डीपीआर में नौकरी दिलाने का झांसा दिया जा रहा है। खम्हारडीह पुलिस ने मामले की गंभीरता को समझते हुए पीआईबी के ऑफिस में छापा मारा। ऑफिस में कई फर्जी दस्तावेज और रिज्यूम मिले। ये संस्था लोगों को रोजगार दिलाने का झांसा देकर अपना शिकार बना रहे थे।

पुलिस ने अभी यह पता नहीं लगाया कि आखिर उन्होंने कितने बेरोजगारों को सरकारी नौकरी लगाने का झांसा देकर ठगी की है। पीआईबी के संचालक अभिजीत शर्मा फरार हैं, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है।