पार्षद श्री ठाकुर ने गॉर्डन निर्माण में ठेकेदार को किये गए भुकतान की जांच की मांग को लेकर कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

मुंगेली/नगर पालिका क्षेत्र के युवा पार्षद श्री ठाकुर ने गार्डन निर्माण में भुगतान पर की जांच की मांग निर्माणाधीन गार्डन निर्माण में भुगतान पर भारी अनियमितता की शिकायत कलेक्टर मुंगेली से की है ज्ञात हो कि आज से 5 वर्ष पूर्व गार्डन निर्माण के लिए 1 करोड़ 59 लाख रुपए की राशि शासन से प्राप्त हुआ जिसे ठेकेदार और अधिकारी मिल कर पूरी राशि का बंदरबांट कर लिए अधिवक्ता संदीप तिवारी ने इस मामले की जांच को लेकर हाईकोर्ट लेे गए मामला लबित है पर अचानक अधिकारी और जनप्रतिनिधि मिलकर अभी हाल में 37लाख रुपए का भुगतान कर दिए आखिर ऐसा हुआ क्या की हाईकोर्ट में मामला लंबित है और भुगतान कर दिए पार्षद श्री ठाकुर ने कहाकि शासन के राशि का दुरुपयोग क्यों किया गया जबकि स्थल पर यह कार्य हुआ भी नहीं है इस मामले में जो भी अधिकारी जनप्रतिनिधि शामिल है उनसे राशि वसूली कर FIR होना जरुरी है जिससे आने वाले कल पर कोई भी अधिकारी या जनप्रतिनिधि ऐसा न कर सके

आमजनता की वर्षो पुरानी मांग

करीब 40 हजार आबादी वाले मुंगेली नगर में यहां के रहवासी को परिवार सहित समय बिताने एक भी उपयुक्त जगह नही होने के चलते।आम नागरिकों के द्वारा कई वर्षों से एक सुंदर सा गॉर्डन कीमांग करते आ रहे थे,वही आमजनता द्वारा किये गए इस मांग को नगरीय निकाय चुनाव में भी मुद्दा बनाते हुए एक अच्छे गॉर्डन की मांग को पूरा करने का भरोषा उस समय जे प्रत्याशियों ने भी दिलाया था यही वजह रही कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों के प्रयास से प्रदेश सरकार द्वारा नगर की जनता को बड़ी सौगात देते हुए गॉर्डन की मांग को ना सिर्फ पूरा किया बल्कि इसके लिए करोड़ों रुपये भी आबंटित किये।लेकिन ये मुंगेली का दुर्भाग्य ही कहे कि उक्त निर्माण में नगर पलुक के अधिकारी और ठेकेदार की मिलीभगत से ये गॉर्डन भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई,वही गॉर्डन के निर्माण में भी करीब 5 साल का अधिक समय लग गया है और जैसे तैसे गॉर्डन का कार्य पूरा तो हुआ लेकिन लोकार्पण हो रहे देरी के चलते अभीतक ये गॉर्डन आमजनता को उपलब्ध नही हो पाया है।इस तरह से नगर की जनता को प्रदेश सरकार के द्वारा दिया गया सौगात नगर पालिका के अधिकारी और ठेकेदार के चलते अभिशाप बन गया है जिसको लेकर आमजनों भारी आक्रोश है जो कभी भी एक बड़ा आंदोलन का रूप ले सकता है