पानीटंकी निर्माण में हो रहे गड़बड़ी को लेकर पार्षदों ने खोला मोर्चा,करोड़ो की लागत हो रहे निर्माण में जमकर की जा रही है अनिमितता,जानिए निर्माण को लेकर क्या कहना है जनप्रतिनिधियों का

मुंगेली/ नगर पालिका की 32 करोड़ की जल आवर्धन योजना में अव्यवस्था भर्राशाही एवं गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। 32 करोड़ की योजना की बड़ी भारी पानी टंकी निर्माण में क्यूरिंग तक ठीक से नहीं हो पा रही आधी बन चुकी पानी टंकी में सही तरीके से पानी क्यूरिंग नही होने से अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह की गुणवत्ता का निमर्ण किया जा रहा है। भारी भरकम पानी टंकी निर्माण में लगे ठेकेदार के कर्मी ने कहा कि नगर पालिका में पानी व्यवस्था के लिए बोला गया है। परंतु अधिकारियों ने व्यवस्था नही की है। जिससे ठीक से क्यूरिंग नही हो पा रही है। सीमेंट के निर्माण कार्य में क्यूरिंग का ही महत्व है। इसके बाद भी बिना क्यूरिंग के आधी टंकी का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है, जिससे नयी बन रहे टंकी में कुछ जगहा गिट्टियां उखड़ती नजर आ रही है। नगर पालिका के अधिकारियों ने जानकारी लेकर पानी की व्यवस्था करने की बात कही है। वहीं ठेकेदार ने आस पास से पानी लेकर क्यूरिंग की बात कहीं है। नगर में पहले तो बिना अनुमति पूरी सड़क खोद दी गई है। फिर उक काम में भी अव्यवस्था की शिकायत के बाद काम रोका गया है। पीडब्लूयूडी ने तो नगर पालिका को नोटिस दे दिया कि बिना अनुमति हमारी सड़क तोड़ दिए उसका हर्जाना दो, हर्जाना वसूलने पीडब्यूडी के इंजीनियर द्वारा मूल्यांकन किया जा रहा है। इसी जल आवर्धन योजना के तहत जिले में दो जगहो पर पानी टंकी निर्माण कार्य एक पानी टंकी दाउपारा मुक्तिधाम के अंदर बनायी जा रही है तथा दूसरा पानी टंकी स्टेडियम परिसर के पास बनाई जा रही है। जहां लगभग आधा निर्माण हो चुका है। परंतु इतनी बड़ी पानी टंकी निर्माण के लिए पानी क्यूरिंग की व्यवस्था नहीं होने से बिना क्यूरिंग के ही निर्माण किया जा रहे ठेकेदार के कर्मी रवीन्द्र शहानी ने बताया कि उनके पास क्यूरिंग करने के लिए पानी की व्यवस्था नहीं है। नगर पालिका से टेंकर मांगा गया है। किसी तरह एक दो टेंकर आता है तो क्यूरिंग की जाती है। पास में ही गार्डन में बोर है। उसमें से पानी मांगा गया था। हम मशीन लगवाने भी तैयार है परंतु नगर पालिका के अधिकारियों ने व्यवस्था नहीं की है। अब हम पड़ोस के एक निजी बोर से पानी लेकर क्यूरिंग करेंगे। जबकि सीमेंट के हर निर्माण कार्य में क्यूरिंग से ही गुणवत्ता हो पाती है। परंतु इतनी महत्वपूर्ण पानी टंकी के निर्माण में क्यूरिंग नहीं होने से पानी टंकी निर्माण किस तहर का हो रहा है समझा जा सकता है। गुणवत्ता की कलई अभी से खुलने लगी है।

भगवान भरोषे चल रहा है काम

चुनाव के बाद से नगर पालिका में कार्य भगवान भरोषे चल रहा है विकास कार्य तो नही हो रहें पर कुछ पुराने कार्य चल रहें है उसमे भी गुणवत्ताहीन कार्य किया जा रहा है। जिस पर जिम्मेदार जनप्रतिनिधि इस ओर ध्यान नही दे रहे तो नये पहुचे अधिकारी भी अभी समझ ही रहे है। जिससे विकास कार्य में गति नही आ रही है। 32 करोड़ की लागत से डिंडोरी मुंगेली तक पाईप लाईन एवं नगर में पाईप लाईन बिछाने एवं पानी टंकियों के निर्माण कार्य होना है।

नगर पालिका में कांग्रेस के अध्यक्ष के प्रत्याशी रहे पार्षद हेमेन्द्र गोस्वामी ने कहा कि नगर पालिका में हर निर्माण कार्य पूरी गुणवत्ता के साथ होना चाहिए कहीं पर गुणवत्ता का ध्यान नही रखा जाएगा तो हम इसकी शिकायत कर सुधार करायेंगे।

वरिष्ठ पार्षद अरविन्द वैष्णव ने बताया कि शासन के पैसे का दुरूपयोग हो रहा है ठेकेदार द्वारा घटिया निर्माण किया जा रहा है। मैंने मुख्य नगर पालिका अधिकारी से बात की है। ठेकेदार का काम तत्काल प्रभाव से रोका जाए।

वही इस संबंध में नगर पालिका के सीएमओ मनीष वारे ने कहा कि इसकी जानकारी लेकर ठेकेदार को निर्माण एवं क्यूरिंग के लिए पानी की व्यवस्था करा दी जायेगी जिससे अच्छे से क्यूरिंग हो सके साथ ही गुणवत्ता विहिन कार्य कोताही किसी भी हाल में बर्दाश्त नही की जाएगी इसकी जानकारी लेकर आगे की कार्यवाही की जाएगी।