वर्षो पुरानी माँग पर मिली गॉर्डन की सौगात,लेकिन अभी भी करना पड़ रहा है आमजनता को गॉर्डन का इंतजार,जानिए क्या है वजह

मुंगेली/नगर की जनता के सुंदर गार्डन का सपना 6 सालों बाद भी साकार नही हो सका जिसको लेकर आमलोगों में शासन-प्रशासन और जनप्रतिनिधियों के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त है। मुंगेली नगर पालिका क्षेत्र की आबादी करीब 40 हजार है लेकिन नगर में ऐसा कोई स्थान नही है जहां यहां के निवासी अपने परिवार या मेहमानों के साथ सुकून के पल बिता सके वही सबसे बड़ी समस्या घरेलू महिलाओं को होती है जिन्हें अपना समय बिताने इतने बड़े शहर में एक भी स्थान उपलब्ध नही है यही वजह है कि नगर के आम नागरिकों के द्वारा लंबे समय से एक अच्छे गॉर्डन की मांग शासन प्रशासन से करते आ रहे थे जिसे प्रदेश की तत्कालीन भाजपा सरकार के द्वारा पूरा करते हुए नगर पालिका क्षेत्र के नवागढ़ रोड में स्थित पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्टेडियम के पास करीब 1 करोड़ 69 लाख की राशि स्वीकृत करते प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के द्वारा 27 नवम्बर 2015 को मुंगेली आगमन के दौरान भूमिपूजन किया गया था जिसके बाद गॉर्डन का निर्माण कार्य शुरू तो हुआ लेकिन जल्द ही ये गॉर्डन भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गयी ठेकेदार एवँ अधिकारी के द्वारा मनमानी करते हुए ना सिर्फ निर्माणाधीन गॉर्डन में घटिया क्वालिटी के उपकरण लगाए बल्कि उन उपकरणों के शासन से कई गुना अधिक राशि का भी भुगतान ले लिया गया जिसको लेकर भारी हंगामा भी हुआ जिसके साथ निर्माणाधीन गॉर्डन बनने से पूर्व ही जर्जर हो गया और इसका कार्य अधर में ही लटक गया और नगर की जनता के हांथ एक बार फिर मायूसी लगी वही नगर की लोगो के द्वारा ठेकेदार के खिलाफ भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाते हुए शिकायत की गई जिसमें उच्च स्तरीय जांच भी किया गया लेकिन अभीतक सम्बंधित ठेकेदार एवं अधिकारियों के ऊपर किसी प्रकार की कोई भी कार्यवाही नही हो सकी है वही इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में भी एक जनहित याचिका दायर किया गया जिसमें उक्त ठेकेदार व अधिकारियों के द्वारा मिलीभगत कर किये गए भ्रष्टाचार के पर्याप्त सबूत भी उपलब्ध कराया गया है जिसका फैसला अभी आना बाकी है वही नगर के आमलोगों की जनभावना का ख्याल रखते हुए प्रदेश की मौजूदा कांग्रेस सरकार के द्वारा नगर के गॉर्डन को पूरा करने एक बार फिर प्रयास किया गया जिसके तहत प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा 50 लाख रुपयों की अतिरिक्त राशि प्रदान किया गया जिसके बाद गॉर्डन का कार्य पुनः शुरू करते हुए इसे पूरा तो कर लिया गया लेकिन आमजनता को इसके लिए अभी और इंतजार करना पड़ रहा है जिसका कारण है नेताजी के आगमन नही हो पाने के चलते गॉर्डन का लोकार्पण नही हो पा रहा है जानकारी के मुताबिक जिला प्रशासन के द्वारा गॉर्डन के लोकार्पण को लेकर पूरी तैयारी किया गया है लेकिन नेताजी के नगर आगमन को लेकर समय निर्धारित नही हो पाने के कारण लोकार्पण का कार्य अधर में लटका हुआ है वही वर्षो से गॉर्डन की मांग करने वाले आमलोगों में शासन प्रशासन के इस रवैये के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त है ऐसे में अब देखना होगा कि नेताजी के आगमन कबतक सुनिश्चित हो पाता है जिनके करकमलों द्वारा नगर की जनता को एक सुंदर गॉर्डन की सौगात मिल सके