STATE TODAY|बेरोजगारों से धोखाधड़ी और ब्लैकमेलिंग के फरार आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार,गिरफ्तार किये गए 5 आरोपियों में 2 महिलाएं भी शामिल,प्रदेश के अन्य थानों में भी दर्ज है आरोपियों के खिलाफ मामले,जानिए कैसे बनाते थे ये लोगों को शिकार

मुंगेली/जिले के जरहागांव थाना में धोखाधड़ी के मामले में कई महीनों से फरार चल रहे आरोपियों को गिरफ्तार करने जिले के पुलिस अधीक्षक अरविंद कुजूर के निर्देश तथा अति.पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार सोनी एवँ उप पुलिस अधीक्षक साधना सिंह के मार्गदर्शन में जरहागांव थाना प्रभारी राजकुमार साहू के नेतृत्व में टीम गठित कर फरार आरोपियों की पतासाजी में जुटी हुयी थी तथा आरोपियों के ठिकानों पर लगातार दबिश दिया जा रहा था इसी दौरान पुलिस टीम के द्वारा इंदौर मध्यप्रदेश में पहुंचकर आरोपियों की मदद करने वाले अभिषेक राठौर से पूछताछ करने के आधार पर पुलिस टीम के द्वारा आरोपियों को पकड़ने में सफलता मिली है,जिले के जरहागांव थाना क्षेत्र में 2 माह पूर्व धोखाधड़ी के मामले को सुलझाने में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है,उक्त मामले में जरहागांव पुलिस के द्वारा कार्यवाही करते हुए मामले के फरार 5 आरोपियों को इंदौर मध्यप्रदेश प्रदेश से गिरफ्तार किया गया है,गिरफ्तार किए गए आरोपियों में 3 युवक सहित 2 महिलाएं भी शामिल है,मामले का खुलासा करते हुए अति.पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार सोनी ने बताया कि जिले के थाना जरहागांव में 6 जनवरी 2021 को प्रार्थी पीयूष तिवारी के द्वारा मामला दर्ज कराया गया था कि प्रियंका लहरे,शशि लहरे,शैलेंद्र लहरे जो जरहागांव थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम खमरिया के निवासी है तथा अतुल राठौर जो कि इंदौर मध्यप्रदेश का निवासी हैं के द्वारा धोखाधड़ी करते हुए प्रार्थी से 3 लाख रुपये नगद एवँ प्रार्थी के जानकार के दुकानदार से फर्नीचर ले लिए थे तथा प्रार्थी के द्वारा अपने रुपयों की मांग करने पर लगातार टालमटोल कर रहे थे जिसके बाद प्रार्थी पीयूष तिवारी के द्वारा आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था,इसी तरह उक्त आरोपियों के द्वारा ही एक अन्य व्यक्ति अभिषेक गाजलवार को वन विभाग में नौकरी दिलाने का झांसा देकर उससे 1 लाख 20 हजार की राशि लेकर उसे फर्जी नियुक्ति पत्र देकर उसके साथ भी धोखाधड़ी की घटना को अंजाम दिया गया था,जिसके बाद धोखाधड़ी के शिकार हुए व्यक्ति अभिषेक गाजलवार द्वारा 27 फरवरी 2021 को थाना जरहागांव आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था उक्त दोनों मामलों के दर्ज होते ही सभी आरोपी फरार हो गए थे इस दौरान जरहागांव पुलिस के द्वारा आरोपियों के पतासाजी करते हुए अम्बिकापुर से आरोपियों के मदद करने वाले एक अन्य सहयोगी अनुज गुप्ता को 14 मार्च को गिरफ्तार किया था जो कि अभी न्यायिक हिरासत में मुंगेली उप जेल में बंद है,वही पुलिस ने बताया कि आरोपियों गिरफ्तार करने के बाद जरहागांव पुलिस के द्वारा आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया जहाँ से सभी आरोपियों को जेल दाखिल कर दिया गया है,वही पुलिस ने ये भी जानकारी दिया कि आरोपियों के द्वारा प्रदेश के रायपुर तथा दुर्ग जिले में भी धोखाधड़ी के अन्य मामलों में संलिप्तता रही है जिसके बारे में भी जानकारी लिया जा रहा है,इस कार्यवाही में जरहागांव थाना प्रभारी राजकुमार साहू,सहा.उप.निरीक्षक बी आर राजपूत,साईबर सेल,प्रधान आरक्षक महेश राज,आरक्षक नागेश साहू,राजू साहू,अमीर चतुर्वेदी,महिला आरक्षक सरस्वती मित्रा,प्रेमीलता कुजूर,का सराहनीय योगदान रहा

बेरोजगारों को ठगने गिरोह चलाती थी प्रियंका लहरे प्रदेश के कई थानों में है मामले दर्ज

रोजगार की चाह रखने वाले पढ़े लिखे नौजवानों को शिकार बनाते हुए प्रियंका लहरे द्वारा उन्हें सरकारी नौकरी लगवाने के झांसा दिया जाता था तथा उन लोगों से मोटी रकम वसूल कर फर्जी नियुक्त पत्र दे दिया जाता था,प्रियंका के इस कृत्य में उसके पति,भाई एवँ माँ भी साथ देती थी जिनके द्वारा ऐसे ही कई कारनामे प्रियंका लहरे और उनके साथियों के द्वारा प्रदेश के कई जिलों पर किये हैं,जिसमें ठगी के शिकार हुए लोगों ने उनके खिलाफ मामले दर्ज कराए है,ये कारनामों पर कारनामा करते गए और प्रदेश के कई थानों में इनके खिलाफ नौकरी लगाने के नाम पर पैसा लेने एवं ब्लैकमेलिंग के मामले दर्ज होते चले गए यही नही कुछ शिकायतें ऐसी है जिसपर जांच जारी है और भविष्य में मामले दर्ज हो सकते है।

मौदहापारा,रायपुर में धारा 384,120बी,201,389,67 आईटी एक्ट के तहत

थाना कुम्हारी में 420,34 के तहत

थाना मिलाई 3 में धारा 384,354,67 आईटी एक्ट के तहत

थाना जरहागांव में 420,120बी 212 आईपीसी के तहत

थाना जरहागांव में 420,468,120 बी आईपीसी के तहत