STATE TODAY|शिक्षिका ने की वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना के मौत पर अभद्र टिप्पणी,पत्रकारों में बेहद आक्रोश,FIR दर्ज कराने प्रेस क्लब ने दिया आवेदन

मुंगेली/ टीचर को भविष्य निर्माता कहा जाता हैं,परंतु यदि कोई टीचर ही किसी मृतक के प्रति जहर उगलते हुए अभद्र टिप्पणी करें तो ऐसे में आप समझ सकते हैं कि उस स्कूल के बच्चों पे मानसिक रूप से क्या प्रभाव पड़ेगा…मुंगेली के व्हाट्सएप ग्रुप में एक मैसेज लगातार वायरल हो रहा जिसमें यह बताया जा रहा कि मुंगेली के नगर पालिका स्कूल की एक टीचर के द्वारा देश के वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना के अभी हाल ही में हुए मौत पर अभद्र टिप्पणी करते हुए अपने स्टेटस पर पोस्ट डाला गया हैं, जिसकी स्क्रीनशॉट पत्रकारों सहित कई ग्रुप में वायरल किया जा रहा,इस पोस्ट को लेकर पत्रकारों एवं नागरिकों में भारी आक्रोश सोशल मीडिया के माध्यम से दिख रहा हैं,कुछ पत्रकारों ने इसमें एफआईआर दर्ज करने की भी बात कही हैं,आपको बता दे कि अभी हाल ही में देश के एक बड़े न्यूज़ चैनल में बतौर एंकर के रूप में पदस्थ व सीनियर पत्रकार रहे रोहित सरदाना की मौत हो गई थी,जिसके कारण पूरे देश से उन्हें सोशल मीडिया के माध्यम से श्रद्धांजलि दी जा रही हैं ऐसे में ऐसे पत्रकारिता का धर्म निभाने वाले को मौत के बाद भी नही बख्शा जा रहा,एक तरफ पूरा देश उनकी मौत पर श्रद्धांजलि दे रहा तो वहीं दूसरी ओर मुंगेली नगर पालिका स्कूल में पदस्थ एक शासकीय शिक्षिका ने उनके खिलाफ बहुत ही अभद्र टिप्पणी की हैं,जिसे हम शब्दों में बयां नहीं कर सकते। प्रेस क्लब के पत्रकारों ने इसकी घोर निंदा करते हुए इस मामले की शिकायत सिटी कोतवाली में की गई है साथ ही इस मामले में दोषी व्यक्ति के ऊपर कड़ी कार्यवाही की मांग की गई है

राणा प्रताप सिंह नगर अध्यक्ष भाजपा मुंगेली – पत्रकार के निधन पर ऐसी प्रतिक्रिया देना बहुत ही निंदनीय हैं, कार्यवाही होनी चाहिए..इस तरह की टिप्पणी सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने का काम किया जा रहा, जो गलत हैं।

प्रेस क्लब सचिव योगेश शर्मा ने कहा कि प्रेस क्लब द्वारा थाने में लिखित शिकायत की गयी है…कोरोना संकटकाल में पत्रकारों ने कोरोना वारियर्स की भूमिका अपने जान की परवाह किये बिना निभाई हैं, किसी पत्रकार के निधन पर इस प्रकार की टिप्पणी करना अशोभनीय हैं।

शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष स्वतंत्र मिश्रा ने कहा कि देश के चौथे स्तंभ कहलाने वाले पत्रकार जगत के एंकर रोहित सरदाना जी की मौत हमें बहुत दुख है किसी को भी मौत के पश्चात ऐसा टीका टिप्पणी करना उचित नहीं है।

समाजसेवी व स्टार्स ऑफ टुमॉरो के रामपाल सिंह ने कहा कि महामारी के इस कठिन दौर में जहाँ लोग सारे गिले शिकवे भूल एक दूसरे के प्रति सहयोगात्मक भाव रखते हुवे बुरे दौर से निकलने में ढांढस बांध भाई चारे की एकता का मिशाल पेश कर रहे है वही एक ओर राष्ट्रीय स्तर के पत्रकार के गुजर जाने पर इस प्रकार की टिप्पणी अशोभनीय प्रतीत होती है वो भी एक शिक्षिका के द्वारा जो घृणित मानसिकता को दर्शाता है। शिक्षक को जहाँ हम राष्ट्र निर्माता कहते है अगर उन्ही से इस प्रकार विद्वेषपूर्ण भाषा का प्रयोग किया जाए तो ये मानवता के लिए कलंक है।