नौकरी लगाने के नाम से सैकड़ों लोगो से लाखों रुपयों की ठगी करने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे,जानिये पुलिस कैसे पहुंची शातिर आरोपी तक

बालोद(रोहित चंदेल)-नोकरी लगाने के नाम पर लोगो से लाखो रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले पर सतीश उपाध्याय जेल के सलाखें में है।आरोपी के जेल जाने के बाद बालोद जिले के डोंडी थाने क्षेत्र में दो बेरोजगार युवकों से लगभग 7 लाखों रुपये की धोखाधड़ी करने के एक और मामले सामने आ रहे है। डोंडी थाने क्षेत्र के ग्राम बम्हनी नरेश मरकाम से दिसम्बर 2019 में स्पंज आयरन कम्पनी सिलतरा रायपुर, खुर्सीपार, भिलाई, उरला, गोदावरी,रायगढ़ आदि जगहों के प्लांट मे नौकरी लगाने के नाम पर सतीश उपाध्याय पिता ओंकारनाथ उपाध्याय, उम्र 45 वर्ष पता क्वां नं0 166 ए-1, एस.ए.टाईप, स्ट्रीक नं 18 टाउन शीप दल्लीराजहरा थाना दल्लीराजहरा तहसील डौण्डी जिला बालोद (छ0ग0) के द्वारा 32 हजार रूपये व अन्य 100 से 150 लोगो से धोखाधडी कर नौकरी लगाने के नाम पर 40 लाख से अधिक रूपये लिया है, जिसके सबंध में प्रार्थी नरेश मरकाम ने मंगलवार को डोंडी थाने में लिखित आवेदन दिया हैं।प्रार्थी की लिखित आवेदन पर पुलिस ने सतीश उपाध्याय के खिलाफ एक बार फिर 420 के तहत मामला पंजीबद्ध किया हैं। प्रार्थी नरेश मरकाम ने पुलिस को दिए गए लिखित आवेदन में बताया कि सतीश उपाध्याय पिता स्व0 ओंकारनाथ उपाध्याय, उम्र 45 वर्ष पता क्वां नं0 166 ए-1, एस.ए.टाईप, स्ट्रीक नं 18 टाउन शीप दल्लीराजहरा, थाना दल्लीराजहरा, तहसील डौण्डी जिला बालोद (छ0ग0) को वर्ष दिसम्बर 2019 से जानता पहचानता हूं, जिन्होंने बताया कि मैं स्पंज आयरन कम्पनी सिलतरा रायपुर, खुर्सीपार, भिलाई, उरला, गोदावरी, रायगढ आदि जगहों के प्लांट में 21 वर्ष के लिए टेण्डर लिया हूं,उक्त सभी प्लांटों में बहुत से लोगों को नौकरी में रखना है, जिसके बहकावें में आकर 32 हजार रुपये दिया हूं, सतीश उपाध्याय ने मेरे घर से आकर पैसा ले गया। मेरे अलावा लालसिंह गावडे निवासी पचेड़ा से भी 6,96,000/रू0 व ग्राम सिरसिदा, मालगांव, ठेमाबुजुर्ग, सिवनी, खुर्सीटिकुर, आमडुला, कांडे व अन्य गांवो के 100 से 150 लोगो के साथ धोखाधड़ी कर नौकरी लगाने के नाम पर 40 लाख रूपये से अधिक वसूल लिये। जिसका नाम व पता मुझे मालुम नही है पता चलने पर मैं आपको बताऊंगा । मेरे तथा अन्य लोगों द्वारा बार बार पैसा वापस मांगने पर सतीश उपाध्याय पैसा नहीं लौटाया, वह टालमटौल करता रहा तथा वह अपने निवास स्थान राजहरा से हमारा रूपये लेकर फरार हो गया है। सतीश उपाध्याय मेरे व अन्य 100 से 150 लोगों के साथ छल कपट कर धोखाधड़ी किया है।