STATE TODAY|जिले में कोरोना का कहर कोरोना संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या से पुरे जिले के लोग चिंतित

कोविड -19 के दूसरे चरण के संक्रमण ने पुरे नगर में भयावह स्थिति उत्पन्न कर दी है। इससे संक्रमित होने वाले तथा मरने वालों के बढ़ते आंकड़ों से नगरवासी सहमे हुए हैं। नगर के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है।

संजू जैन
बेमेतरा: कोविड -19 के दूसरे चरण के संक्रमण ने बेमेतरा जिले के नगरपालिका , 07 नगर पंचायत एवं पुरे ग्रामीण में भयावह स्थिति उत्पन्न कर दी है। इससे संक्रमित होने वाले तथा मरने वालों केबढ़ते आंकड़ों से नगरवासी सहमे हुए हैं। नगर केसाथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। कोरोना की चेन तोड़ने जिले में पूर्ण लाकडाउन है। प्रशासन की सख्ती और कोरोना केकहर से लापरवाही बरतने वाले भी अब घर में दुबके हुए हैं। जिस रफ्तार से यह महामारी पैर पैसार रही है उपलब्ध स्वास्थ सुविधाएं बौने साबित हो रहे हैं।

जिले के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में स्वास्थ्य विभाग द्वारा आवश्यकता के अनुरूप कोविड -19 जांच किट तथा वैक्सीन उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। कोविड जांच तथा वैक्सीन लगवाने आए अनेक लोगों को बैरंग लौटना पड़ता है। सरकार जांच तथा वैक्सीनेशन बढ़ाने का ढोल तो पीट रही हैं, परंतु जरूरत केअनुसार सामग्री मुहैया नहीं करा पा रही है। अस्पताल में चिकित्सकों की कमी की पूर्ति भी नहीं की जा रही है। अनेक कर्मचारियों की ड्यूटी कोविड अभियान में होने से सामान्य मरीजों केउपचार में भी परेशानी हो रही है। अस्पताल में कोविड केयर सेंटर प्रारंभ न होने से ऐसे कोरोना मरीज परेशान हैं, जिन्हें तुरंत आइसोलेट किया जाना हो। जिला अस्पताल बेमेतरा सहित अन्य शहरों के शासकीय व निजी चिकित्सालयों में बेड खाली न मिलने से ऐसे गंभीर हालत के मरीजों की जान सांसत में है। इसी दौड़ भाग में मरीज जान गंवा रहे हैं। पिछले दस दिनों में अनेक कोरोना मरीज काल कलवित हो चुके हैं।

विगत दिनों से कोरोना धनात्मक मरीज पाए गए हैं। ऐसी विषम परिस्थिति में जिले के आलावा सभी पंचायत में कोविड केयर सेंटर शीघ्र प्रारंभ किए जाने की मांग बलवती हो रही है।

जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकों की कमी से मरीजों को आशानुकूल उपचार नहीं मिलने से परेशानियां बढ़ गई है। खासकर गरीब तबके के लोग जो मंहगा इलाज कराने अक्षम हैं, उनकेलिए स्थानीय स्तर पर चिकित्सकीय सुविधा मुहैया कराना आवश्यक हो गया है।

कोविड केयर सेंटर बनकर लगभग तैयार,फिर भी लेटलतीफी

थानखम्हरिया नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोविड केयर सेंटर बनकर लगभग तैयार है। आक्सीजन गैस सप्लाई पाइप लाइन विस्तार के साथ 20 बेड तैयार हैं परंतु कुछ आवश्यक तैयारी शेष रहने के कारण इसे प्रारंभ नहीं किया जा सका है। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, कलेक्टर शिव अनंत तायल व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ अधिकारी बेमेतरा सतीश शर्मा ने इसे शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं। वर्तमान में कम आक्सी पावर वाले मरीज जिन्हें तत्काल आक्सीजन की जरूरत है ऐसे लोग मौत की दहलीज पर खड़े होते हैं, इन्हें सुविधा नहीं मिल पा रही है।

वैक्सीन व टेस्टिंग किट की कमी बरकरार

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के टीकाकरण केंद्र में रोजाना 200 वैक्सीन डोज की आवश्यकता है, परंतु 50 – 60 डोज ही उपलब्ध हो पा रहा है, जिससे लोग भटक रहे हैं। कोविड -19 के एंटीजन किट की कमी के चलते जांच प्रभावित हो रही है। आरटीपीसीआर जांच नियमित न होने से एंटीजन किट की मांग बढ़ गई है, फिर भी स्वास्थ्य विभाग इसकी पूर्ति नहीं कर पा रहा है। आरटीपीसीआर की जाच रिपोर्ट भी जल्दी नहीं आ रही है जिससे लोग धनात्मक आने पर उपचार प्रारंभ कर सकें। अनेक लोगों ने बताया कि एक सप्ताह बाद भी जॉच रिपोर्ट नहीं आने से उन्हें दोबारा जांच कराना पड़ा।

मौतों के बाद भी सगज नहीं शासन प्रशासन

कोरोना संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या तथा अनेक मौतों केबाद भी न ही चिकित्सकों की पूर्ति की जा रही है और न ही स्वास्थ सेवाओं में इजाफा किया जा रहा है, जिससे नागरिकों में असंतोष व्याप्त है। जनप्रतिनिधि भी समस्याओं के निराकरण में रूचि नहीं दिखा रहे हैं। प्रतिदिन बिगड़ते हालात से नागरिकों में भय तथा असुरक्षा का भाव है। स्थिति को नियंत्रित करने स्वास्थ विभाग तथा शासन प्रशासन को और सजग तथा मुस्तैद होने की आवश्यकता है। वहीं नागरिकों को भी इस विपरीत समय में धैर्य और संयम रखने की आवश्यकता है।

बेमेतरा जिले में लॉकडाऊन के बाद भी पॉजिटिव मरीजों की संख्या ज्यादा
10 अप्रैल से लगा है जिले में संपूर्ण लॉकडाऊन जहां
10 अप्रैल को :378
11 अप्रैल को:225
12 अप्रैल को :629
13 अप्रैल को:524
14 अप्रैल को :384
लॉकडाऊन के लगने के इन 5 दिनों में मिले हैं 2140 मरीज
टोटल.जिले में अब तक मिल चुके है 10 हजार.से ज्यादा मरीज अभी जिले में 14 अप्रैल तक में वर्तमान पॉजिटिव मरीजों की संख्या है 4365 और