राजिम माघी पुन्नी मेला:विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत बोले- कोरोना हमारे बुरे कर्मों का फल,दुराचार बढ़ा इसलिए वायरस प्रलय के रूप में आया….

गरियाबंद जिले में छत्तीसगढ़ के विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने एक बयान दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना समाज में बढ़े व्यभिचार, अत्याचार और दुराचार का नतीजा है। बुरे कर्मों की वजह से प्रलय के रूप में ये वायरस आया है। उन्होंने कहा कि इसको लेकर लोगों को आत्मचिंतन करने की जरूरत है। विधानसभा अध्यक्ष ने यह बात राजिम माघी पुन्नी मेले के शुभारंभ अवसर पर राजिम के मुख्य मंच से कहीं। उन्होंने अपने भाषण में लोगो को संबोधित करते हुए कहा कि आज हम जिस वैश्विक महामारी का शिकार हो रहे है वह हमारे बुरे कर्मो का प्रतिफल है।

मंच के भाषण के बाद जब मीडिया ने उनसे यही सवाल पूछा तो उन्होंने एक बार अपने ब्यान पर अडिग रहते हुए कोरोना को लोगो के बुरे कर्मो का नतीजा बताया है। उन्होंने कहा कि लोग जो गलत कार्य करते है कोरोना उसी का नतीजा है। विधानसभा अध्यक्ष शनिवार शाम को राजिम माघी पुन्नी मेले का शुभारंभ करने राजिम पहुंचे थे। इस दौरान धर्मस्व एवं पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू, विधायक अमितेष शुक्ल ओर धनेंद्र साहू सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं साधु संत भी मंच पर बैठे थे।

गृहमंत्री ने कहा…

मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि मेला का स्वरूप पहले बदल गया था जिसे पुनः स्थापित किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आते ही पहला विधेयक राजिम माघी पुन्नी मेला का लाया था और गजेटियर के अनुसार इसे पुन्नी मेला का नाम दिया गया। उन्होंने कहा की अब राज्य में पृथक से धार्मिक न्यास का संचालनालय बनेगा। इसमें संभाग स्तर पर उप संचालक पद की नियुक्ति जाएगी। साथ ही राज्य के सभी मंदिर ट्रस्ट आदि की जानकारी एकत्र कर धार्मिक न्यास के अंतर्गत शामिल किया जाएगा। राजिम मेला के लिए 54 एकड़ स्थाई जमीन चयन के लिए स्थानीय प्रशासन को बधाई दी। मंत्री साहू ने कहा कि राजिम को राम वन गमन परिपथ से जोड़ा जाएगा।