सदन में पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया HEIGHT का मतलब,कहा- राजकीय कोष अब सरकार के नियंत्रण से बाहर,सरकार के पास जल्द ही कर्मचारियों को वेतन देने के पैसे नहीं होंगे

रायपुर: राज्य सरकार द्वारा प्रस्तुत किए गए बजट पर आज पूर्व सीएम डाॅ रमन सिंह और अजय चंद्राकर ने सरकार को घेरा। डाॅ रमन सिंह ने कहा कि बजट में हाईट का उल्लेख किया गया था, जो की गलत है। यहां एच का मतलत हॉलो यानी खोखला, ई का मतलब एक्सक्लूजनरी याने बड़े वर्ग को छोड़कर, आई का मतलब इमपरफेक्ट याने अपूर्ण, जी का मतलब गर्वनेंस गिल्ट शासन संचालन में अपराध बोध, एच का मतलब हॉरर याने डरावना और टी का मतलब टेरीबल व्हेरी अनप्लेसेंट यानी डरावना बहुत बुरा होता है।

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि राजकीय कोष अब सरकार के नियंत्रण से बाहर हो गयी है। जल्द ही ऐसा समय आएगा जब सरकार के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के पैसे नहीं होंगे। हमने पंद्रह वर्ष सत्ता संभाली और 33 हजार करोड़ लिया। इस दौरान हमने बेहतर वित्तीय प्रबंधन किया। राजकोषीय उत्तरदायित्व और बजट प्रबंध अधिनियम बनाया जिसमें राजस्व घाटा शून्य और वित्तीय घाटा जीएसडीपी के 3 प्रतिशत तक सीमित रखने का निर्णय लिया। इस नियम का हमने 15 वर्षों तक कड़ाई से पालन किया।

अजय चंद्राकर ने कहा कि इस बजट के लिए वस्तुस्थिति को छुपाया जा रहा है। प्रदेश सरकार का गिरय बाॅक्स फंस गया है। बजट को पारदर्शी भी नहीं रखा गया। इसे राज्य का बजट नहीं कह सकते, यह कटमनी पॉकेटमनी का बजट है। भारत सरकार के योगदान का पता चलेगा। गोबर धन योजना क्या है और उसमें स्वच्छता के द्वितीय और तृतीय चरण के लिए 400 करोड़ रुपए की जरुरत क्यों है तब पता चलेगा केंद्र सरकार की भुमिका क्या है।